पितृ पक्ष की शांति :- प्रेतशिला के दर्शन और फिर पिंडदान, तर्पण के बाद भक्तजन वापस लौटे

प्रेतशिला के दर्शन और फिर पिंडदान तपर्ण
प्रेतशिला के दर्शन और फिर पिंडदान तर्पण
धार्मिक अनुष्ठान के लिए गया पीठ बिहार के लिए पहुचें
धार्मिक अनुष्ठान के लिए गया पीठ बिहार के लिए पहुचें
दूसरे दिन पूर्णिमा के पहले श्राद्ध को पिंडदान और तपर्ण किया
दूसरे दिन पूर्णिमा के पहले श्राद्ध को पिंडदान और तर्पण किया

दनकौर कसबे से भक्तगजनों का दल गया था,पितरों के उद्धार के लिए गया पीठ बिहार

मौहम्मद इल्यास-’’दनकौरी’’/ग्रेटर नोएडा

दनकौर कसबे से भक्तगजनों का दल पितरों के उद्धार के लिए गया पीठ बिहार गया। प्रेतशिला के दर्शन और फिर पिंडदान  तर्पण के बाद ये भक्तजन दनकौर वापस लौट आए हैं। यह पितृ पक्ष की शांति के लिए भक्तजनों का दल खेडा देवत मंदिर धनौरी रोड दनकौर के महंत अमित पंडित जी के नेतृत्व में गया पीठ बिहार के लिए पहुंचा फिर वहां 4 दिन की पूजा के बाद वापस दनकौर लौट आए हैं। महंत अमित पंडित जी के अलावा भक्तजनों के दल में वीरेंद्र प्रजापति, खेमचंद प्रजापति, राधे श्याम प्रजापति मेरठ मंडल अध्यक्ष राष्ट्रीय हिंदू संघ, लोकेश पंडित जी मिर्जापुर धर्मेंद्र आचार्य वृंदावन समेत करीब एक दर्जन लोग धार्मिक अनुष्ठान के लिए गया पीठ बिहार के लिए पहुचें। खेडा देवत मंदिर धनौरी रोड दनकौर के महंत अमित पंडित जी ने बताया कि पितरों के उद्धार के लिए दनकौर से करीब 1 दर्जन भक्तजन गत 28 सितंबर-2023 को गया बिहार के लिए रवाना हुए फिर दूसरे दिन पूर्णिमा के पहले श्राद्ध को पिंडदान और  तर्पण  किया। यह पिंडदान और तर्पण  54 वैदियों के महंत श्रीचंदनलाल जी टंईया कराया। हवन पूजन के साथ ही यह पिंडदान और तर्पण  पूरे 4 दिन तक कराया गया।

राधे श्याम प्रजापति मेरठ मंडल अध्यक्ष राष्ट्रीय हिंदू संघ
राधे श्याम प्रजापति मेरठ मंडल अध्यक्ष राष्ट्रीय हिंदू संघ

राधे श्याम प्रजापति मेरठ मंडल अध्यक्ष राष्ट्रीय हिंदू संघ ने बताया कि श्री गया बिहार, 54 तीथ वैदियों का पूजन व पिंडदान तर्पण  होता है। श्री विष्णुपद मंदिर में प्रेत शिलाएं भी हैं और जहां अकाल मृत्यु के बाद श्राद्ध किया जाता है इससे मोक्ष प्राप्ति के द्धार खुल जाते है। वीरेंद्र प्रजापति ने बताया कि श्री विष्णुपद मंदिर, श्री गया धाम, बिहार में प्रेतशिला तथा पितरों के उद्धार के लिए श्राद्ध किया जाता है और जिससे मोक्ष की प्राप्ति होती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate

can't copy

×
%d bloggers like this: