खिलौना-इंडिया टॉयज एंज गेम्स फेयर 2023-द्वितीय संस्करण

 

 

खिलौना-इंडिया टॉयज एंड गेम्स फेयर के दूसरे संस्करण का उद्घाटन आज हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद (ईुपीसीएच) के अध्यक्ष दिलीप बैद की उपस्थिति में किया गया
खिलौना-इंडिया टॉयज एंड गेम्स फेयर के दूसरे संस्करण का उद्घाटन आज हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद (ईुपीसीएच) के अध्यक्ष दिलीप बैद की उपस्थिति में किया गया

इंडिया एक्सपो सेंटर में तीन दिवसीय खिलौना-इंडिया टॉयज एंड गेम्स फेयर के दूसरे संस्करण के शो ‘खिलौना’ का उद्घाटन

खिलौना निर्माताओं, जिनमें मुख्य रूप से एमएसएमई और कुशल कारीगर शामिल
खिलौना निर्माताओं, जिनमें मुख्य रूप से एमएसएमई और कुशल कारीगर शामिल

Mohammad Ilyas-Dankauri/Greater Noida

इंडिया एक्सपो सेंटर एंड मार्ट, ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे में 18 से 20 अगस्त 2023 तक आयोजित होने वाले खिलौना-इंडिया टॉयज एंड गेम्स फेयर के दूसरे संस्करण का उद्घाटन आज हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद (ईुपीसीएच) के अध्यक्ष दिलीप बैद की उपस्थिति में किया गया। इस आवसर पर ईपीसीच के वाइस चेयरमैन (II) डॉ. नीरज खन्ना; राज कुमार मल्होत्रा, पूर्व अध्यक्ष-ईपीसीएच; दिनेश कुमार; रविंदर कुमार पासी; सागर मेहता, गिरीश कुमार अग्रवाल; हंसराज बाहेती; कमल सोनी; सलमान आज़म; के. एल. रमेश, ओम प्रकाश प्रह्लादका; राजेश जैन; प्रदीप मुछाला; अरशद मीर, लेखराज माहेश्वरी, सिमरनदीप सिंह कोहली; नावेद उर रहमान; सी. पी. शर्मा सदस्य-प्रशासन समिति-ईपीसीएच आईईएमएल के अध्यक्ष डॉ. राकेश कुमार; ईपीसीएच के कार्यकारी निदेशक आर के वर्मा; ईपीसीएच की प्रशासनिक समिति के सदस्यों की भी उपस्थिति रही। इसका आयोजन हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद द्वारा भारत सरकार के एमएसएमई मंत्रालय, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय और कपड़ा मंत्रालय, के अनुमोदन और सक्रिय सहयोग से किया जाता है।  इस अवसर पर आयोजकों को दिए अपने संदेश में, भारत सरकार के केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण और कपड़ा मंत्री, श्री पीयूष गोयल ने कहा, “इस उद्योग का विकास माननीय प्रधान मंत्री के ‘वोकल फॉर लोकल’ और दुनिया के लिए ‘मेक इन इंडिया’ के दृष्टिकोण के अनुरूप है। यह मेला हमारे खिलौना निर्माताओं, जिनमें मुख्य रूप से एमएसएमई और कुशल कारीगर शामिल हैं, को अपेक्षित बाजार लिंकेज स्थापित करके अंतरराष्ट्रीय बाजारों के साथ अपने जुड़ाव का विस्तार करने का एक विशेष अवसर प्रदान करेगा।’ इस आयोजन में आशावाद को प्रतिध्वनित करते हुए, माननीय केंद्रीय कपड़ा राज्य मंत्री श्रीमती दर्शना जरदोश ने अपने संदेश में कहा, “भारत के खिलौने और खेल उद्योग में देश को इस क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने और दुनिया के लिए निर्माता बनने के प्रधान मंत्री के दृष्टिकोण को साकार करने की क्षमता है। मुझे यह जानकर खुशी हुई कि इस उद्योग के हितधारकों को अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन करने और तीन दिवसीय मेले में दुनिया भर के खरीदारों के साथ जुड़ने के लिए एक उपयुक्त मंच मिल रहा है।”

मेले की संरचना के बारे में बोलते हुए, ईपीसीएच के अध्यक्ष, दिलीप बैद ने बताया, कि उद्योग के विभिन्न क्षेत्रों के प्रदर्शकों के साथ, खिलौना आयोजन खिलौनों और खेलों में नवीनतम रुझानों, डिजाइनों और प्रगति की खोज के लिए एक महत्वपूर्ण प्रमुख मंच
 उद्योग के विभिन्न क्षेत्रों के प्रदर्शकों के साथ, खिलौना आयोजन खिलौनों और खेलों में नवीनतम रुझानों, डिजाइनों और प्रगति की खोज के लिए एक महत्वपूर्ण प्रमुख मंच

मेले की संरचना के बारे में बोलते हुए, ईपीसीएच के अध्यक्ष, दिलीप बैद ने बताया, कि उद्योग के विभिन्न क्षेत्रों के प्रदर्शकों के साथ, खिलौना आयोजन खिलौनों और खेलों में नवीनतम रुझानों, डिजाइनों और प्रगति की खोज के लिए एक महत्वपूर्ण प्रमुख मंच है। आगंतुक पारंपरिक खिलौनों और खेलों के साथ-साथ कलेक्टेबल,नवाचारों और उच्च गुणवत्ता वाले निर्मित खिलौनों में भारत की ताकत देख सकते हैं। ऐसे कई लोग हैं जो स्टेम खिलौनों की पेशकश कर रहे हैं, जो आकर्षक उत्पाद श्रृंखलाओं के साथ बढ़ती बाजार मांग के अनुरूप हैं। ऐसे उत्पाद स्वयं ही अपना परिचय देते हैं। इस आयोजन में खिलौनों के साथ बच्चों के रहने की जगह के लिए सजावट, थीम और सहायक उपकरण का भी एक अन्य खंड है, जहां निर्माता एर्गोनोमिक आवश्यकताओं के अनुरूप फर्नीचर, मूड को बेहतर बनाने के लिए सजावट, थीम आधारित फर्निशिंग और सहायक उपकरण, टेबल टॉप और दीवार सजावट, स्टेशनरी उत्पाद,अवकाश वर्गीकरण,में निर्यात संभावनाएं तलाश रहे हैं।” ईपीसीएच के वाइस चेयरमैन (द्वितीय) डॉ. नीरज खन्ना ने कहा, कि  “मेले में 10 से अधिक स्टार्ट-अप प्रदर्शक भी हैं, जो फन एंड लर्निंग, इंडोर और आउटडोर खेल की भरपूर पेशकश कर रहे हैं। वे बच्चों के कमरे के फर्नीचर, शिशु और छोटे बच्चों के उत्पाद, गेमिंग, फ़िजिटल (फिजकल+डिजिटल) लाइनों, मनोरंजक और शैक्षिक खिलौनों में व्यावसायिक अवसरों के लिए संबंध बनाने के लिए तत्पर हैं।”

खिलौना निर्माता पारंपरिक कौशल और सामग्रियों को आधुनिक डिजाइन समझ और विनिर्माण प्रौद्योगिकियों के साथ संयोजित करने के रोमांचक तरीके तलाश
खिलौना निर्माता पारंपरिक कौशल और सामग्रियों को आधुनिक डिजाइन समझ और विनिर्माण प्रौद्योगिकियों के साथ संयोजित करने के रोमांचक तरीके तलाश

आईईएमएल के अध्यक्ष डॉ. राकेश कुमार ने साझा किया, कि  “खिलौना क्षेत्र डिजाइन और नवाचार के मामले में बहुत पुराने और फिर भी सबसे गतिशील क्षेत्रों में से एक है। इस शो के माध्यम से, खरीदारों और विक्रेताओं के बीच सीधे व्यापार से लाभ उठाने के अलावा, खिलौना निर्माता पारंपरिक कौशल और सामग्रियों को आधुनिक डिजाइन समझ और विनिर्माण प्रौद्योगिकियों के साथ संयोजित करने के रोमांचक तरीके तलाश सकते हैं। ईपीसीएच के कार्यकारी निदेशक, आर.के.वर्मा ने आगे विस्तार देते हुए कहा, कि  “खिलौना –  इंडिया टॉयज एंड गेम्स मेला प्रदर्शकों के बीच भारत के खिलौना शिल्प गांवों, कस्बों और समूहों के दूरदराज के कोनों से कई कारीगरों के साथ हमारी समृद्ध विरासत और अद्वितीय शिल्प कौशल का जीवंत प्रतिनिधित्व पेश करता है। सरकार के गुरु शिष्य हस्तशिल्प प्रशिक्षण कार्यक्रमों के माध्यम से ईपीसीएच की विशिष्ट टीमों द्वारा अधिक डिजाइन और विविधता, बेहतर गुणवत्ता, विपणन क्षमता और व्यावसायिक व्यवहार्यता बनाने की दिशा में उनके मौजूदा और मूल कौशल को और निखारा गया है। इस आयोजन में आगंतुकों को चन्नापटना लैकरवेयर खिलौने, वाराणसी लकड़ी के खिलौने, अशरिकांडी टेराकोटा खिलौने, जयपुर कठपुतली, किन्हाल लकड़ी के खिलौने, इंदौर चमड़े के खिलौने और कडप्पा राजा रानी लकड़ी की गुड़िया का संग्रह दिखाई देगा। भारतीय खिलौना उद्योग वैश्विक स्तर पर सबसे तेजी से बढ़ने वाले उद्योगों में से एक है। वर्ष 2028 तक इसका बाजार 3 बिलियन डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है। यह बाजार 2022-28 की अवधि में 12% की सीएजीआर से बढ़ रहा है। घरेलू बाज़ार का आकार वर्तमान में अनुमानित मूल्य 1.5 बिलियन डॉलर है। भारत का खिलौना निर्यात 2018-19 में 203.42 मिलियन अमेरिकी डॉलर से बढ़कर 2022-23 में 325.72 मिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate

can't copy

×
%d bloggers like this: