एमिटी विश्वविद्यालय पहुंचे 30 भारतीय प्रवासी युवा

प्रवासी युवाओं के लिए तीन सप्ताह के ज्ञान कार्यक्रम ‘भारत को जाने’ का आयोजन
प्रवासी युवाओं के लिए तीन सप्ताह के ज्ञान कार्यक्रम ‘भारत को जाने’ का आयोजन

68वें भारत को जाने कार्यक्रम के अंर्तगत मॉरीशस, गुयाना, फिजी, त्रिनिदाद, टोबैगो, दक्षिण अफ्रिका, मलेशिया, म्यानमार और सूरिनाम आदि से 30 भारतीय प्रवासी युवा छात्रों ने  एमिटी विश्वविद्यालय का एकदिवसीय दौरा किया

Vision Live/Noida

भारत सरकार के विदेश मंत्रालय द्वारा प्रवासी युवाओं के लिए तीन सप्ताह के ज्ञान कार्यक्रम ‘भारत को जाने’ का आयोजन किया गया है जिसका उददेश्य भारतीय प्रवासी युवाओं की भारत के बारे में समझ को विकसित करके उनके और पैतृक मातृभूमि के मध्य संबंध को बढ़ाना है। इसी क्रम के 68वें भारत को जाने कार्यक्रम के अंर्तगत मॉरीशस, गुयाना, फिजी, त्रिनिदाद, टोबैगो, दक्षिण अफ्रिका, मलेशिया, म्यानमार और सूरिनाम आदि से 30 भारतीय प्रवासी युवा छात्रों ने आज एमिटी विश्वविद्यालय का एकदिवसीय दौरा किया और भारतीय शिक्षण पद्धती, संस्कृती, परंपरा, विरासत सहित भारतीय फिल्म और ड्रामा के संर्दभ में जानकारी हासिल की। इन युवा प्रवासी छात्रों का स्वागत एमिटी  ग्रुप वाइस चांसलर डा गुरिंदर सिंह और एमिटी विश्वविद्यालय के इंटरनेशनल अफेयर डिविजन के उप महानिदेशक रियर एडमिरल आलोक भटनागर द्वारा किया गया। इस कायर्कम में विदेश मंत्रालय के डायस्पोरा एंगेजमेंट डिविजन के अधिकारी भी उपस्थित थे। छात्रों का स्वागत करते हुए एमिटी ग्रुप वाइस चांसलर डा गुरिंदर सिंह ने कहा कि भारत एक बृहद परिवर्तनकारी विकास के दौर से गुजर रहा है जिसमें हम अर्थव्यवस्था, अनुसंधान, नवाचार, कला संस्कृति, विज्ञान और प्रौद्योगिकी सभी क्षेत्रों में नया मुकाम हासिल कर रहे है। एमिटी शिक्षण समूह पूरे विश्व में अग्रणी शिक्षा समूह है और हम विदेश मंत्रालय के ‘‘भारत को जानें’’ कार्यक्रम के तहत भारतीय प्रवासी के 30 छात्रों की मेजबानी करके सम्मानित महसूस कर रहे है। इस दौरान डा सिंह ने छात्रों को प्रवेश प्रक्रिया, पाठयक्रम, अनुसंधान व नवाचार का संचालन सहित एमिटी विश्वविद्यालय में उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी प्रदान की।

‘भारत को जानें’’ कार्यक्रम के तहत भारतीय प्रवासी के 30 छात्रों की मेजबानी
‘भारत को जानें’’ कार्यक्रम के तहत भारतीय प्रवासी के 30 छात्रों की मेजबानी

एमिटी विश्वविद्यालय के इंटरनेशनल अफेयर डिविजन के उप महानिदेशक रियर एडमिरल आलोक भटनागर ने एमिटी क्रास बार्डर कार्यक्रम के बारे में बताते हुए कहा कि हमे भारतीय प्रवासी छात्रों का स्वागत करके प्रसन्नता हो रही है जिससे हमे स्वंय के साथ भारत के इतिहास और संस्कृति, सूचना प्रौद्योगिकी, अंतरिक्ष विज्ञान, अर्थव्यवस्था, शिक्षा, भारत की प्रगति और उपलब्धियों से परिचित करने का मौका मिल रहा है। एमिटी क्रॉस बार्डर कार्यक्रम मे ंहम वैश्विक अध्ययन कार्यक्रम, विदेश में अध्ययन कार्यक्रम, थ्री कांटीनेंट प्रोग्राम, सहित 60 विषयों में 400 कार्यक्रम शामिल है जिसेे विदेशी डिग्री प्राप्त करने और बहु संास्कृतिक कैंपस जीवन अनुभव प्राप्त करने के लिए आदशर््ा मार्ग के रूप में स्वीकार किया जाता है। इस कार्यक्रम के अंर्तगत विभिन्न सत्रों का आयोजन किया गया जिसमें छात्रों को जानकारी प्रदान की गई।

कार्यक्रम के अंर्तगत विभिन्न सत्रों का आयोजन किया गया जिसमें छात्रों को जानकारी प्रदान की गई।
कार्यक्रम के अंर्तगत विभिन्न सत्रों का आयोजन किया गया जिसमें छात्रों को जानकारी प्रदान की गई।

इस कार्यक्रम के अंर्तगत विभिन्न सत्रो ंमें एमिटी साइंस टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन फांउडेशन की डा गुडविल खोखर द्वारा एमिटी रिसर्च एंड इनोवेशन, एमिटी इंटरनेशनल बिजनेस स्कूल की प्रो अनुपमा आर द्वारा भारतीय संस्कृति, परंपरा और विरासत और एमिटी स्कूल ऑफ फिल्म एंड ड्रामा के निदेशक  नरेश शर्मा द्वारा भारतीय फिल्म और नाटक पर जानकारी प्रदान की गई।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate

can't copy

×
%d bloggers like this: