डिजीटल दुनिया की चुनौतियों से निपटने के लिए साइबर सिक्योरिटी वर्कशॉप

 

साइबर सिक्योरिटी विषय पर वर्कशॉप का आयोजन किया
साइबर सिक्योरिटी विषय पर वर्कशॉप का आयोजन किया
मुख्य अतिथि के तौर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के वरिष्ठ सदस्य इंद्रेश कुमार
मुख्य अतिथि के तौर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के वरिष्ठ सदस्य इंद्रेश कुमार

गलगोटिया विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय सुरक्षा जागरण मंच के सहयोग से साइबर सिक्योरिटी विषय पर वर्कशॉप

प्रोफेसर रेनु लुथरा ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि
प्रोफेसर रेनु लुथरा ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि

Vision Live/ Yeida City

राष्ट्रीय सुरक्षा जागरण मंच के सहयोग से गलगोटिया विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ लिबरल एजुकेशन में मंगलवार 29 अगस्त को साइबर सिक्योरिटी विषय पर वर्कशॉप का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के तौर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के वरिष्ठ सदस्य इंद्रेश कुमार आमंत्रित थे। साथ ही, इस अवसर पर राष्ट्रीय सुरक्षा जागरण मंच के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री गोलोक बिहारी राय और साइबर मामलों के विशेषज्ञ आलोक विजयन्त मौजूद थे। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के वरिष्ठ सदस्य इंद्रेश कुमार ने गलगोटिया विश्वविद्यालय के परिसर में शिक्षकों और विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि  आधुनिक तकनीक सुविधाएं तो प्रदान करती हैं, लेकिन समाज के लिए कई चुनौतियां भी पैदा करती हैं। डिजीटल दुनिया की चुनौतियों से निपटने के लिए हमें साइबर योद्धाओं की आवश्यकता है। कार्यक्रम की शुरूआत दीप प्रज्जवलन और सरस्वती वंदना से हुई। प्रोफेसर रेनु लुथरा ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि आप सभी की गरिमामयी उपस्थिति के लिए विश्वविद्यालय परिवार आभारी है। उन्होंने कहा कि हमारे लिए यह जानना अत्यंत आवश्यक है कि हम अपने साइबर स्पेस की सुरक्षा कैसे करें और डिजीटल दुनिया की चुनौतियों से कैसे निपटें। श्री गोलोक ने अपने उद्बोधन में कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा जागरण मंच का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए जो चुनौतियां हैं, उनके प्रति समाज में जागरूकता पैदा करना है। इस क्रम में उन्होंने साइबर सुरक्षा सेनानी कार्यक्रम का जिक्र करते हुए कहा कि विद्यार्थी ऑनलाइन और ऑफलाइन इस पाठ्यक्रम के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

कार्यक्रम की शुरूआत दीप प्रज्जवलन और सरस्वती वंदना से हुई
कार्यक्रम की शुरूआत  हुई

राष्ट्रीय तकनीकी अनुसंधान संगठन के साइबर सिक्योरिटी ऑपरेशन के पूर्व निदेशक आलोक ने विभिन्न तरह के साइबर फ्रॉड और खतरों की चर्चा की। साथ ही, उन्होंने एथिकल हैकिंग के अपने अनुभवों को साझा किया। स्कूल ऑफ लिबरल एजुकेशन की डीन डॉ. अनुराधा पारासर ने नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों का उल्लेख करते हुए कहा कि साइबर क्राइम के ये आंकड़े हमारे और आपके लिए एक चेतावनी भी है कि हमें टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते समय काफी ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए। प्रो-वाइस चांसलर डॉ. अवधेश कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन देते हुए कहा कि हमारा यह दायित्व बनता है कि हम लोगों को साइबर सुरक्षा से जुड़े मामलों को लेकर जागरूक करें। यह वर्कशॉप हमारे विद्यार्थियों और शिक्षकों को साइबर सुरक्षा से जुड़े विभिन्न पहलुओं के बारे में जागरूक करेगा। इस वर्कशॉप का आयोजन अंग्रेजी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. विजय कुमार ने किया। कार्यक्रम के अंत में, विश्वविद्यालय की तरफ से स्मृति-चिन्ह देकर अतिथियों का आभार व्यक्त किया गया

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate

can't copy

×
%d bloggers like this: